roorkeecityonline.com

१८वीं सदीं में रूड़की सोलानी नदी के पश्चिमी तट पर बसा साधारण गांव था जिसमे सिर्फ मिट्टी के घर बने थे| रुड़की का विकास गंगा नहर निर्माण के बाद प्रारंभ हुआ| गंगनहर निर्माण में लगे अभियंताओ व श्रमिको को प्रशिक्षण देनें के के लिए 1845 ई० में 'सिविल इंजीनियरिंग स्कूल' स्थापना की गई थी जिसका नाम 1847 ई० में "थॉमसन कालेज ऑफ सिविल इंजीनियरिंग, रूड़की" कर दिया गया और यह दुनिया में स्थापित होने वाला पूरे एशिया महाद्वीप व भारत का पहला इंजीनियरिंग कालेज बन गया| 1947 ई. में इसकी सेवाओं व महत्ता को देखते हुए इसे विश्वविद्यालय का दर्जा दे दिया गया तथा इसका नाम बदलकर "रूड़की विश्वविद्यालय" 'University of Roorkee' कर दिया गया| 21 सितंबर वर्ष 2001 में संसद में कानून पारित कर भारत सरकार ने इसे देश के सातवें भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) के रूप में मान्यता दी|

 
1. बॉलीवुड के एक गाने की शूटिंग हुई थी रूड़की में
2. रुड़की में कुल कितने शेरों का निर्माण किया गया था और किस देश में है ऐसा ही एक और शेर
3. रुड़की में इंजीनियरी कौशल का बेहतरीन उदाहरण है सोलानी नदी पर बना जलसेतु
4. रुड़की में है ऐतिहासिक बरगद का पेड़ जिस पर दी जाती थी स्वतंत्रता सेनानियों को फांसी
5. रुड़की में है भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण द्वारा संरक्षित स्मारक "ब्रिटिश कब्रिस्तान"
6. रुड़की के इतिहास में हमेशा दर्ज रहेगा इस स्कूल का नाम
7. रुड़की शहर की उन्नीसवी शताब्दी की बेहद दुर्लभ तस्वीरें
 
roorkeecityonline.com